अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया जाता है,और क्यों मनाया जाता है ? जाने इस दिन का इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021: अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर योग और इसके महत्व को पहचानने के लिए वर्ष 2015 में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत की गई थी। तब से हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। इस साल 7वां योग दिवस 21 जून को मनाया जाएगा। हर साल योग दिवस पर अलग-अलग थीम भी रखी जाती हैं। इस साल की थीम ‘बी विद योगा, बी, एट होम’ यानी ‘स्टे विद योगा, स्टे एट होम’ है। इससे पहले साल 2020 में थीम थी घर पर योग करना। इस वर्ष आयुष मंत्रालय ने योग दिवस पर एक गीत की रचना के लिए बड़ी संख्या में लोगों को आमंत्रित किया है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021

आयुष मंत्रालय ने कहा है कि यह गीत भारतीय संविधान के अनुसार आधिकारिक भाषा में होना चाहिए। साथ ही इस गाने के जरिए हर उम्र और संस्कृति के लोगों को योग की ओर आकर्षित करना है। इस गीत में योग के लाभों का भी उल्लेख किया जाना चाहिए। ताकि लोग योग की मदद से अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकें। इसके साथ ही यह गीत लोगों को योग की ओर आकर्षित करे। जरूरत पड़ने पर या आप चाहें तो इसमें इम्युनिटी से जुड़ी बातें भी बता सकते हैं कि कैसे योग आपकी इम्युनिटी को बढ़ाता है। इस वजह से यह कोरोना से लड़ने में मदद करता है और तनाव को भी कम करता है।

इस साल नया क्या है – what’s new this year

इस वर्ष आप अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर 25 से 30 सेकेंड का गीत लिखकर आयुष मंत्रालय की प्रतियोगिता का हिस्सा बन सकते हैं। इसके लिए यह जरूरी है कि आपका गाना आधिकारिक भारतीय भाषा में हो और आसानी से समझा जा सके। इसके अलावा यह गाना लोगों से जुड़ने में आसान होना चाहिए। आप अपने गाने को उच्च गुणवत्ता में रिकॉर्ड कर सकते हैं

और इसे किसी भी मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपलोड कर सकते हैं। इनमें साउंडक्लाउड, यूट्यूब, गूगल ड्राइव आदि शामिल हैं। इसके साथ ही आपको पब्लिक कमेंट करके अपने गाने का लिंक डालना होगा। गाने की स्क्रिप्ट को पीडीएफ फॉर्मेट में अपलोड करना भी जरूरी है। आप अपना गाना 21 जून तक सबमिट कर सकते हैं। विजेता को 25,000 रुपये का इनाम दिया जाएगा।

21 जून को ही क्यों मनाया जाता है योग दिवस?

21 जून साल का सबसे लंबा दिन होता है और योग का निरंतर अभ्यास व्यक्ति को लंबी उम्र देता है। इसी वजह से इस दिन को योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया था। भारत ने संयुक्त राष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की बात कही थी। अन्य सभी देशों ने भी इसका समर्थन किया। तभी से योग के प्रसार के लिए 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। 11 दिसंबर 2014 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस के रूप में घोषित किया।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम क्या थी?

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2021 की थीम हर साल योग दिवस की थीम को अलग तरीके से रखा जाता है। इस साल यानी 21 जून 2021 को योग दिवस की थीम ‘कल्याण के लिए योग’ यानी ‘स्वास्थ्य के लिए योग’ रखी गई है।

भारत में अंतरराष्ट्रीय योग का उत्सव किस मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जाता है

आयुष मंत्रालय ने दो बार अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) का सफलतापूर्वक आयोजन किया है, जिसने दुनिया भर के लोगों में काफी उत्साह दिखाया है। इसे पूरी दुनिया में समर्थन मिला। यह माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के प्रभावी नेतृत्व में भारत सरकार द्वारा आयोजित भव्य कार्यक्रमों में से एक है।

भारत में पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया गया था

पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया थायोग दिवस को मनाए जाने का प्रस्ताव सबसे पहले भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने 27 सितंबर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अपने संबोधन में किया था

पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया गया?

पहली बार इस दिन को 21 जून 2015 को मनाया गया था, जिसकी शुरुआत भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में की थी। जिसके बाद 21 जून को “अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021” के रूप में घोषित किया गया था। .

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस क्यों मनाया जाता है इसका उद्देश्य क्या है?

“योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है; यह मन और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य; विचार, संयम और पूर्ति; और स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण।” जिसके बाद 21 जून को “अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” घोषित किया गया।

योग की शुरुआत कब हुई?

योग की शुरुआत

भारत में योग का इतिहास लगभग 5000 वर्ष पुराना है। मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक रूप से लोग प्राचीन काल से ही इसका अभ्यास करते आ रहे हैं। यह अगस्त नाम का सप्तर्षि था जिसने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप का दौरा किया और योगिक तरीके से जीने की संस्कृति को गढ़ा।

योग की स्थापना कब हुई?

27 सितंबर 2014 को पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक साथ योग करने की बात कही थी. इसके बाद 11 दिसंबर 2014 को महासभा ने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और तभी से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस अस्तित्व में आया।

योग का जनक कौन है?

महर्षि पतंजलि को योग का जनक यानि पिता कहा जाता है। योग को भारत के स्वर्ण युग करीब 26,000 साल पहले की देन माना जाता है

योग के आविष्कारक कौन है?

आदियोगी शिव योग के प्रवर्तक हैं। शिव के योगसूत्र का अष्टांग योग के षट्कर्म के कार्यों से कोई लेना-देना नहीं है। सदाशिव न केवल हमेशा तंत्र-साधना में लीन रहते हैं बल्कि इसके आविष्कारक भी हैं। षट्कर्म की योग क्रियाएं – धौति, बस्ती, अनिमा, जलेती, त्राटक और कपालभाति आदि शरीर को शुद्ध और स्वस्थ रखने के साधन हैं।

योग का जन्म स्थल क्या है?

महर्षि पतंजलि का आश्रम अयोध्या से महज 22 किमी दूर कोडर गांव में स्थित है। यह गांव गोंडा जिले में आता है। योग सूत्र और महाभाष्य की रचना करने वाले महर्षि पतंजलि का गांव स्वयं विकास से अछूता है। यहां महर्षि पतंजलि की जन्मस्थली की पहचान इतनी है कि उनके नाम पर एक मंच दिखाई देता है।

योग कितने प्रकार के होते?

योग के छह पारंपरिक प्रकार हैं ।
  • हठ
  • राज
  • कर्म
  • भक्ति
  • ज्ञान
  • तंत्र
ये भी पढ़े  father’s day
Default image
BABA
babaweb.in ब्लॉग में आप सभी का स्वागत है, जो भारत की लोकप्रिय वेबसाइटों में से एक है। जिसका मकसद इंटरनेट, करियर और टेक्नोलॉजी से जुड़े ज्ञान को लोगों तक पहुंचाना और देश के विकास में योगदान देना है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: